National View

पुलिसिया नादीर शाही से सरेआम हारी राजस्थान की बहन बेटियों की गरिमा

www.nationalview.in

पुलिसिया नादीर शाही से सरेआम हारी राजस्थान की बहन बेटियों की गरिमा ,

ये तो बहुत ही गनीमत रही की कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में राजस्थान पुलिस ने महिलाओं के पूरे वस्त्रों को नहीं काटा और अंग वस्त्रों की तलाशी नहीं ली इससे ज्यादा नादीर शाही और हो ही नहीं सकती , और अजमेर पुलिस ने शायद राजस्थान में सबसे ज्यादा जादती की जिसका कोई वर्णन ही नहीं किया जा सकता , देखने वाले ही शर्मसार हो गए , उन महिला अभ्यर्थियों पर क्या गुजरी होगी जिनको इस त्रासदी से दो चार होना पडा होगा और गुजरना पडा होगा , सीधा सीधा भारतीय दंड सहिंता की धारा 354 I P C का अपराध हुआ है पुरुषों ने महिला अभ्यर्थियों के कान के बुन्दे खोले और वस्त्र कैंचियों से काटे और तलाशियाँ ली बिना इजाजत के सब तरफ से , और जितना जलील कर सकते थे किसी अभ्यर्थी को वो करने में कसर नहीं छोडी बस उसकी फर्द जमा तलाशी और फर्द गिरफ्तारी ही नहीं बनाई बाकी कार्यवाही तो पूरी की , कोई भी युवक व युवती जब परीक्षा देने आता है तो वैसे ही तनाव ग्रस्त होता है पुलिसिया नादीर शाही ने उस तनाव को और बढा दिया , कोटा में हुई खुद की गलती को प्रशाखा जी मान ही नहीं रही हैं और सारे पुलिस अफसर एक दूसरे की पीठ थपथपा कर भांगड़ा डांस कर रहे हैं कि इस गुलाम प्रदेश में हमारी योजना सफल रही ,

ऐसा आत्याचार तो अंग्रेजों के राज में भी भर्ती के नाम पर नहीं हुआ होगा जैसा की अब हुआ है चित्रों से स्पष्ट है , सरकार को कार्ववाही करनी चाहिए दोषी अधिकारियों के विरुद्ध , और इस किसी बेरोजगार महिलाओं की मजबूरी का नाजायज फायदा नहीं उठाना चाहिए , बहुत ही दुखद घटना है जितनी निंदा कि जाये सो कम है ,

आपका अपना राजेश टंंडन जी वकील अजमेर ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *