इंडोनेशिया में तीन चर्च पर आतंकी हमला, मोटरसाइकिल और कारों से किए धमाके;

जकार्ता. रविवार सुबह इंडोनेशिया के पूर्वी प्रांत जावा के सुरबाया में आतंकी हमला हो गया। तीन चर्च को बम के जरिए निशाना बनाया गया। स्ट्रैट टाइम्स के मुताबिक, इन हमलों में आठ लोगों की मौत हो गई। 38 घायल हो गए। धमाके उस वक्त हुए जब संडे मास के लिए श्रद्धालु चर्च में इकट्ठा हुए थे।

– सुरबाया इंडोनेशिया का दूसरा सबसे बड़ा और व्यस्त शहर है। यहां सांता मारिया चर्च पर बम धमाके में तीन लोगों की मौत हो गई। सुरबाया सेंट्रल पेंटाकोस्टल चर्च पर धमाके में एक व्यक्ति की मौत हो गई। जीकेआई डिपोनेगोरे चर्च पर हमले में दो और लोगों की जान चली गई। दो और घायलों ने बाद में दम तोड़ दिया।
– पूर्वी जावा प्रांत के पुलिस प्रवक्ता कर्नल फ्रांस बारुंग मनगेरा ने बताया कि ये सभी हमले सुबह करीब 7 बजे हुए। कुल 38 लोग घायल हुए हैं। इन सभी हमलों को मोटरसाइकिल और कारों में बम रखकर अंजाम दिया गया।
– सुरबाया के उपमहापौर विष्णु शक्ति बुआना ने बताया कि चौथा हमला कैथेड्रल चर्च पर भी हो सकता था लेकिन एक संदिग्ध की तुरंत गिरफ्तारी के साथ ही नाकाम कर दिया गया।

कुछ ही दिन पहले हुए थे दंगे
– इंडोनेशिया में कुछ ही दिन पहले दंगे हुए थे। एक डिटेंशन सेंटर में कुछ लोगों को बंधक भी बना लिया गया था। इस हिंसा में पांच लोगों की मौत हुई थी।
– इंडोनेशिया 2002 से आतंकवाद से जूझ रहा है। तब अलकायदा से जुड़े एक संगठन ने बाली में सिलसिलेवार बम धमाके किए थे। इनमें 202 लोगों की मौत हुई थी। इनमें 88 ऑस्ट्रेलियाई नागरिक थे।

फ्रांस में आईएस आतंकी ने एक के बाद एक लोगों को चाकू मारी
– फ्रांस की राजधानी पेरिस में शनिवार रात एक कथित आतंकी ने कुछ लोगों पर चाकू से हमला कर दिया। इस घटना में 1 शख्स की मौत हुई है, वहीं 4 लोग घायल बताए गए हैं। हालांकि, पुलिस ने मौके पर ही हमलावर को गोली मार दी। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, लोगों पर हमला करने वाले शख्स ने अल्लाह-हू-अकबर के नारे लगाए थे।

मैक्रों ने की घटना की निंदा
– फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने घटना पर गुस्सा जताते हुए ट्वीट भी किया। इसमें उन्होंने लिखा, “फ्रांस ने एक बार फिर खून से कीमत चुकाई है, लेकिन हम दुश्मनों को अपनी आजादी का एक इंच भी नहीं देंगे।”

आईएस ने ली हमले की जिम्मेदारी
– इस घटना की जिम्मेदारी आतंकी संगठन आईएस ने ली है। गौरतलब है कि घटना फ्रांस के समय के मुताबिक, रात करीब 9 बजे हुई। जिस जगह पर इसे अंजाम दिया गया वो अपनी नाइटलाइफ के लिए काफी प्रसिद्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *