पूर्वोत्तर से दक्षिण तक 13 राज्यों में आंधी-तूफान की चेतावनी,

नई दिल्ली/लखनऊ. मौसम विभाग ने गुरुवार को अगले पांच दिन के लिए 13 राज्यों में गरज-चमक के साथ तूफान आने और धूल भरी आंधी चलने की चेतावनी जारी की है। इन राज्यों में बिहार, झारखंड, ओडिशा, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, कर्नाटक के तटवर्ती और उत्तरी इलाकों, तमिलनाडु, पुड्डूचेरी, केरल शामिल हैं। इससे पहले बुधवार को उत्तर भारत के राज्यों में मौसम ने करवट ली। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, बुधवार को आंधी-तूफान की चपेट में आने से उत्तर प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में 16 लोगों की मौत हो गई।

सबसे ज्यादा 4 मौत इटावा में

– बुधवार को आए आंधी-तूफान में सबसे ज्यादा चार मौत इटावा में हुई। मथुरा में तीन, अलीगढ़ में तीन, आगरा में दो, फिरोजाबाद में दो, कानपुर देहात और हाथरस में एक एक मौत हुई है। राज्य में 27 से ज्यादा लोग घायल बताए गए हैं।

– दिल्ली में तेज हवा के साथ बूंदाबांदी हुई। हरियाणा के 6 जिलों में तेज हवा के साथ बारिश और ओले गिरे। गुरुवार को भी ऐसा ही मौसम रहने का अनुमान है।

4 राज्यों में फिर चल सकती हैं आंधी

– मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा और दिल्ली में अगले 24 घंटों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो सकती है। कई जगह तेज और हल्की बारिश का भी अनुमान है।

– मौसम विभाग का कहना है कि 48 घंटों तक प्रदेश के कई हिस्सो में अंधड़ और बारिश के बरकरार रहने की संभावना व्यक्त की है।

दिल्ली-एनसीआर में आंधी-तूफान

– बुधवार दोपहर दिल्ली में अचानक मौसम बदला। बादल छा गए और तेज हवा के साथ बूंदाबांदी हुई। बता दें कि सोमवार रात को दिल्ली-एनसीआर समेत आसपास के जिलों में दूसरी बार धूल भरी आंधी चली। कुछ इलाकों में हल्की बारिश भी हुई। दिल्ली, हरियाणा में आंधी और राजस्थान के बीकानेर में बवंडर आया।

अब तक 134 लोगों की हो चुकी है मौत

– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, एक हफ्ते के अंदर ही धूल भरी आंधी के चलते अब तक उत्तर प्रदेश और राजस्थान से करीब 134 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। जिनमें सबसे ज्यादा 84 मौतें उत्तरप्रदेश में हुई हैं। वहीं, राजस्थान में ही 34 लोगों ने अपनी जान गंवाई और 209 घायल हैं।

मेघालय में भारी बारिश

– मेघालय में शाम को तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश हुई। इसके अलावा असम, मणिपुर, त्रिपुरा, नगालैंड, मिजोरम, तमिलनाडु, केरल और लक्षद्वीप में भी भारी बारिश की आशंका जाहिर की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *