ओसामा के मारे जाने पर ओबामा से बोले थे जरदारी: ये अच्छी खबर, लंबे वक्त से इसका इंतजार था: किताब में दावा

2 मई को पाक के एबटाबाद में अमेरिकी नेवी सील्स कमांडो ने ओसामा को मार गिराया था।
Nationalview.inLast Modified – Jun 07, 2018, 10:13 AM

Shamshud Duha

2007 में बेनजीर की मौत के बाद जरदारी पाक की राजनीति में सक्रिय हुए थे। (फाइल)
o ओबामा के सहायक रहे बेन रोड्स ने लिखी है द वर्ल्ड एज इट इज: ए मेमोयर ऑफ द ओबामा व्हाइट हाउस किताब
o किताब के मुताबिक, 2 मई, 2011 को ही ओसामा ने जरदारी को ओसामा के मारे जाने की जानकारी दी थी
वॉशिंगटन. एक किताब में दावा किया गया है कि पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने तब पाकिस्तान के राष्ट्रपति रहे आसिफ अली जरदारी को ओसामा बिन लादेन की मौत की खबर दी थी तो जरदारी ने अच्छी खबर बताया था। 2 मई को पाक के एबटाबाद में अमेरिकी नेवी सील्स कमांडो ने ओसामा को मार गिराया था।

इस खबर का तो लंबे वक्त से इंतजार था
– व्हाइट हाउस में ओबामा के 8 साल सहायक रहे बेन रोड्स ने ‘द वर्ल्ड एज इट इज: ए मेमोयर ऑफ द ओबामा व्हाइट हाउस’ नाम की किताब लिखी है।
– रोड्स का दावा है, “ओसामा के मारे जाने की खबर मिलने के बाद जरदारी ने ओबामा से कहा कि ये बहुत अच्छी खबर है। इसका तो लंबे वक्त से इंतजार था। भगवान और अमेरिका के लोग आपके साथ है।”
– किताब के मुताबिक, 2 मई 2011 को ही ओसामा ने जरदारी को ओसामा के मारे जाने की जानकारी दी थी।
– बता दें कि 27 दिसंबर 2007 को बेनजीर भुट्टो की हत्या कर दी गई थी। इसके बाद पाकिस्तान की राजनीति में जरदारी सक्रिय हो गए थे।
जरदारी जानते थे पाक में उनका विरोध होगा
– रोड्स के मुताबिक, “जरदारी को अच्छी तरह पता था कि अमेरिका के पाक की संप्रभुता तोड़ने पर उन्हें अपने देश में विरोध झेलना पड़ेगा। लेकिन इससे वे परेशान नहीं हुए।”
– “चुनाव प्रचार के दौरान भी जरदारी ने कहा कि अगर अमेरिका ने ओसामा के बारे में कोई खुफिया जानकारी दी होती तो वे सीमा पार करने से भी नहीं हिचकिचाते।”
– रोड्स बताते हैं कि जब ओबामा की नेशनल सिक्युरिटी की टीम पाक में घुसकर लादेन को मारने की योजना बना रही थी तब उपराष्ट्रपति जो बिडेन ऐसा करने के पक्ष में नहीं थे।
ओबामा हमेशा से इसके लिए तैयार थे
– रोड्स के मुताबिक, “ओबामा ने मुझसे पूछा कि ओसामा के खिलाफ किए जाने के बारे में मैं क्या सोचता हूं। मैंने कहा कि आप तो हमेशा से ऐसा करना चाह रहे थे।”
– “ओबामा ने 4 संभावनाओं की बात कही। 1- बिन लादेन एक कंपाउंड में है और ये जीत है। 2- लादेन एक कंपाउंड में है और वो गंदा है। वहां लोग मारे गए हैं। वहां अस्थिरता है और पाक सिक्युरिटी सर्विस है। 3- अगर बिन लादेन वहां नहीं भी मिलता तो हम अंदर जाएंगे और बाहर भी आ जाएंगे। 4- लादेन वहां नहीं मिलता और वह स्थान गंदा है।”
– “ओबामा ने अफसरों के साथ मीटिंग में कोई टिप नहीं दी। केवल इतना कहा कि वे रात में फैसला कर लेंगे। जब अफसर मीटिंग के बाहर निकले तो बिडेन मुझे और एक अन्य अफसर डेनिस मैक्डोनॉ को दूसरे कमरे में ले गए। उन्होंने दरवाजा बंद कर दिया और पूछा- क्या आप लोगों को लगता है कि ओबामा को ऐसा करना चाहिए। डेनिस ने कहा- हां।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *