होटल, दुकानें, प्लाईवुड का गोदाम, फैक्ट्री आदि सीज करने से अजमेर में खलबली।

www.nationalview.in

होटल, दुकानें, प्लाईवुड का गोदाम, फैक्ट्री आदि सीज करने से अजमेर में खलबली।

नाराज लोगों ने नगर निगम पर किया प्रदर्शन।
9 जुलाई को अवैध निर्माणों पर सख्त कार्यवाही करते हुए नगर निगम ने 5 संस्थानों को सीज कर दिया। सबसे बड़ी कार्यवाही अजमेर के पुरानी मंडी में बनी 6 दुकानों को सीज कर की गई। जगदीश सोनी ने अपने आवासीय परिसर में 6 दुकानों का निर्माण कर लिया था। दूसरी बड़ी कार्यवाही डिग्गी चैक में हीरालाल चम्पालाल की होटल डायमण्ड को सीज की गई। यहां भी आवासीय नक्शे पर होटल का निर्माण किया गया। इसी प्रकार वैशाली नगर स्थित कैलाशपुरी में विजय गोयल के प्लाईवुड के गोदाम को भी सीज किया गया। चन्द्रवरदाई नगर में मोहनदास द्वारा चलाई जा रही खाद्य सामग्री की फैक्ट्री को भी सीज किया गया। मेयो लिंक रोड से बड़े पैमाने पर अस्थाई अतिक्रमणों को हटाया गया। यह कार्यवाही राजस्व अधिकारी पवन मीणा, एईएन मनमोहन माथुर, दीपक कौशिक, राजेश मीणा आदि के नेतृत्व में की गई। इस कार्यवाही से शहर भर में खलबली मची गई है क्योंकि अधिकांश बाजारों में आवासीय भूमि पर ही व्यवसायिक निर्माण हो रखे हंै।
निगम पर प्रदर्शन:
पुरानी मंडी में की गई सीज की कार्यवाही के विरोध में दुकानदारों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखकर नगर निगम के कार्यालय पर प्रदर्शन किया। दुकानदारों का कहना रहा कि निगम ने द्वेषतापूर्ण तरीके से सीज की कार्यवाही की है। निगम प्रभावशाली व्यक्तियों के खिलाफ कार्यवाही नहीं करता है। उल्लेखनीय है कि विगत दिनांे जयपुर रोड स्थित मारूती के शोरूम को भी सीज किया गया था, लेकिन राज्य सरकार के निर्देंश के बाद शोरूम को सीज मुक्त कर दिया गया। आरोप है कि जब निर्माण होता है तब निगम के इंजीनियर कोई कार्यवाही नहीं करते। यदि निर्माण के दौरान ही कार्यवाही हो जाए तो बाद में सीज की नौबत ही नहीं आएगी।

Editor :- Shamshud duha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *