चांद के दक्षिणी ध्रुव पर भारत…आखिरी कुछ पलों में यूं थम गई थी सांसे, चंद्रयान-3 के लैंडर से बाहर आया प्रज्ञान रोवर

भारत चांद पर है… इसरो प्रमुख एस सोमनाथ के ये शब्द सुनकर कोई भावुक हो गया तो खुशी से झूमने लगा. पूरे देश में ढोल नगाड़े बजने लगे, लोग जश्न में डूब गए. ये नजारा बुधवार की शाम 6:04 बजे था जब देशभर के मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारों में मांगी जा रही दुआओं के बीच भारत ने चांद के साउथ पोल पर पहुंच इतिहास रचा. चंद्रयान-3 के विक्रम लैंडर ने सफलतापूर्वक चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग की.

  1. इस मिशन की सफलता के साथ ही भारत चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंडिंग करने वाला दुनिया का पहला देश और चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला दुनिया का चौथा देश बन गया. लैंडर विक्रम और रोवर प्रज्ञान से लैस लैंडर मॉड्यूल की लैंडिंग के बाद इसरो ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव की पहली शानदार तस्वीर भी जारी की. लैंडर और इसरो के मिशन संचालन परिसर (एमओएक्स) के बीच संचार लिंक स्थापित हो गया है. लैंडर से प्रज्ञान रोवर भी बाहर निकलकर चहलकदमी करने लगा है.
  1. चंद्रयान-3 के विक्रम लैंडर की लैंडिंग का लाइव टेलीकास्ट किया गया. जिसमें दक्षिण अफ्रीका से पीएम मोदी भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़े. लैंडिंग प्रक्रिया के आखिरी के कुछ मिनट सांसे थामने वाले थे. चंद्रयान-3 जैसे ही चंद्रमा की सतह के करीब पहुंचा तब समूचे देश ने अपनी सांस रोक ली. खेल का मैदान हो या घर या दफ्तर, 140 करोड़ की आबादी वाले इस देश में कुछ पलों के लिए एक अजीब सा सन्नाटा था. तभी इसरो के कमांड सेंटर से तालियों की आवाज आई जिसका मतलब था कि हम कामयाब हो गए हैं, और देश भर के लोग खुशी के मारे उछल पड़े.
  2. विक्रम लैंडर की सफल लैंडिंग के बाद इसरो के प्रमुख एस सोमनाथ ने कहा कि चंद्रयान-3 की सफलता ने हमें भविष्य में और अधिक चुनौतीपूर्ण अभियानों को पूरा करने का आत्मविश्वास प्रदान किया है. सोमनाथ ने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि हमने चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग में सफलता हसिल कर ली है. भारत चांद पर है. चंद्रयान-3 का मकसद चंद्रमा की सतह पर वैज्ञानिक परीक्षण करना है. वहां मौजूद पानी और अन्य खनिज पदार्थों के बारे में पता लगाना है.
  3. इसरो के वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत ने पृथ्वी पर प्रण लिया और चंद्रमा पर जाकर उसे पूरा किया. पीएम मोदी ने कहा कि ये सदैव गर्व किया जाने वाला क्षण है. उन्होंने कहा कि भारत चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव पर पहुंचा है जहां अबतक कोई देश नहीं पहुंचा है. भारत अब चंद्रमा पर है और अब चंद्रपथ पर टहलने का समय है.
  4. पीएम मोदी ने कहा कि कभी कहा जाता था चंदा मामा बहुत दूर के हैं, अब एक दिन वो भी आएगा जब बच्चे कहा करेंगे चंदा मामा बस एक टूर के हैं. चंद्रयान-3 की सफलता के तुरंत बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसरो प्रमुख एस सोमनाथ को फोन कर बधाई भी दी.

6.राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भी इसरो और मिशन में शामिल सभी लोगों को बुधवार को बधाई दी. राष्ट्रपति ने कहा कि चंद्रयान-3 की सॉफ्ट लैंडिंग एक अविस्मरणीय अवसर है. ये एक ऐसी घटना है जो जीवनकाल में एक बार होती है. मैं इसरो, चंद्रयान-3 मिशन में शामिल सभी लोगों को बधाई देती हूं और उन्हें आगे और बड़ी उपलब्धियां हासिल करने की शुभकामनाएं देती हूं.

  1. अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने चंद्रयान मिशन की सफलतापूर्वक सॉफ्ट लैंडिंग कराने वाला चौथा देश बनने पर भारत को बधाई दी और इस उपलब्धि को अंतरिक्ष इतिहास में एक अतुल्य क्षण करार दिया. नासा प्रमुख बिल नेल्सन ने ट्वीट किया कि चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान-3 की सफलतापूर्वक लैंडिंग के लिए इसरो को बधाई. चंद्रमा पर अंतरिक्ष यान की सफलतापूर्वक सॉफ्ट-लैंडिंग कराने वाला चौथा देश बनने पर भारत को बधाई. हमें इस मिशन में आपका भागीदार बनकर खुशी हो रही है.
  2. यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के महानिदेशक जोसेफ एशबैकर ने ट्वीट कर लिखा कि अतुल्य, इसरो और भारत के सभी लोगों को बधाई. भारत ने नई तकनीकों का प्रदर्शन करते हुए किसी अन्य खगोलीय पिंड पर पहली सॉफ्ट लैंडिंग की. मैं पूरी तरह प्रभावित हूं. वहीं ब्रिटेन की अंतरिक्ष एजेंसी ने ट्वीट कर लिखा कि इतिहास बन गया, इसरो को बधाई.
  3. रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भी भारत को बधाई दी. पुतिन ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री को बधाई देते हुए कहा कि चंद्रयान-3 पर सफल लैंडिंग के अवसर पर मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार करें. ये अंतरिक्ष अन्वेषण में एक बड़ा कदम है और निश्चित रूप से विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत द्वारा की गई प्रभावशाली प्रगति का प्रमाण है. कृपया नई उपलब्धियों के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के नेतृत्व और कर्मचारियों को मेरी हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दें.
  4. देश के लगभग सभी नेताओं ने इस उपलब्धि पर बधाई दी. कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि चंद्रयान-3 अभियान की सफलता, देश की सामूहिक सफलता है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि आज की शानदार उपलब्धि के लिए टीम इसरो को बधाई. ये हमारे वैज्ञानिक समुदाय की दशकों की जबरदस्त प्रतिभा और कड़ी मेहनत का परिणाम है. 1962 के बाद से भारत का अंतरिक्ष कार्यक्रम नई ऊंचाइयों को छू रहा है और सपने देखने वाली युवा पीढ़ियों को प्रेरित कर रहा है.

National View Network

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

G20 क्या है , विस्तार से समझते है ।

Sat Sep 9 , 2023
विश्व की बड़ी आर्थिक समस्याओं के समाधान की दिशा में कुछ कदम बढ़ाने के लिए, विश्व के 20 प्रमुख अर्थव्यवस्थाएँ एक साथ आती हैं – इसे जाने जाने वाला “G20 सम्मेलन” हर बार महत्वपूर्ण होता है। इस लेख में, हम G20 सम्मेलन की महत्वपूर्ण जानकारी को संक्षेप में देखेंगे और […]

You May Like